शेरजंग गर्ग

शेरजंग गर्ग की रचनाएँ

ख़ुद से रूठे हैं हम लोग ख़ुद से रूठे हैं हम लोग। टूटे-फूटे हैं हम लोग॥ सत्य चुराता नज़रें हमसे,…

2 months ago