भक्तिकाल

कुम्भनदास की रचनाएँ

भक्तन को कहा सीकरी सों काम  भक्तन को कहा सीकरी सों काम। आवत जात पन्हैया टूटी बिसरि गये हरि नाम॥…

2 months ago

घमंडीलाल अग्रवाल की रचनाएँ

कहो मम्मी, कहो पापा कहाँ घूमें, किधर जाएँ- कहो मम्मी, कहो पापा। सुधाकर मुसकराता है, इशारे से बुलाता है, लिए…

2 months ago