Poetry

चित्रा सिंह की रचनाएँ

प्यार की सीमा रेखा

प्यार की सीमा रेखा
तय करनी होगी

कितनी गहराई तक
डुबोना है ख़ुद को

कहाँ से वापस
आ जाना होगा लौटकर
किनारों पर ।

तुम्हारा आना

तुम्हारा आना, आकर
मेरी ज़िन्दगी के केनवास पर
खिंची आड़ी-तिरछी
लकीरों को जोड़ना
सलीके से,

भरना उनमें रंग
जिससे बनी भी ख़ूबसूरत-सी
तस्वीर, तस्वीर जिसकी
शक्ल बिल्कुल मेरी-सी है

और वो रंग तुम्हारे मैंने
भर लिए हैं, अपनी माँग में ।

अपने ख़्वाबों को सजाकर

अपने ख़्वाबों को सजाकर
दुनिया की हाट में
जिस दिन सीख जाऊँगी
बोली लगवाना

उसी दिन से मिल जाए
शायद मुझे निजात

पर तब कहाँ बचेगा मेरा घर ?
मैं भी कहाँ बच पाऊँगी शायद…।

टूटे हुए सपने से

टूटे हुए सपने से
खुली, आज सुबह
फिर आँख
सपना, आज फिर
चुभता रहा, दिन-भर ।

Share