Poetry

रचना सिद्धा की रचनाएँ

पंख जो होते

एक चिड़िया के बच्चे चार
उड़ गए देखो पंख पसार,
रस्ते में जो भूख लगी
उतरे वे सब बीच बजार।

बीच बजार पड़े दाने,
लगे तुरत वे उनको खाने,
आया तब तक एक शिकारी
उनको बंदी हाय, बनाने।

इतने में माँ चिड़िया आई,
दिया शिकारी उसे दिखाई,
झट उसने बच्चों को रोका
उड़ी संग ले उनको भाई!

रहा शिकारी मलता हाथ
ताक रहा था वह आकाश,
सोच रहा था अपने मन में
‘पंख मेरे भी होते काश!

-साभार: नंदन, मई 2002, 36

Share