सत्यदेव आजाद की रचनाएँ

प्यारे चंदा मामा

प्यारे चंदा मामा, आओ!

सारे नभ में घूमा करते
हर घर को तुम देखा करते
अगर न आओ, तो हमको ही-
इक दिन अपना घर दिखलाओ
प्यारे चंदा मामा, आओ!

सबकी मम्मी के हो भाई
बस यह बात समझ न आई,
मामा का यह कैसा रिश्ता?
कभी बैठ करके समझाओ।
प्यारे चंदा मामा, आओ!

टिम-टिम करते ढेरों तारे
क्या बच्चे हैं इतने सारे?
ऐसा भी क्या कभी हमें भी
अपने बच्चों से मिलवाओ!
प्यारे चंदा मामा, आओ!

Share