गीत चतुर्वेदी की रचनाएँ

उभयचर-1  चेस्वाव मिवोश और विष्णु खरे के लिए दुख भरा था तुममें दुख से भरा यह जग था इस जग…

12 months ago

गिरीष बिल्लोरे ‘मुकुल’ की रचनाएँ

तुम मेरे साथ तुम मेरे साथ एक दो क़दम चलने का अभिनय मत करो एक ही बिंदू पर खड़े-खड़े दूरियां…

12 months ago

गिरीश पंकज की रचनाएँ

माँ सरस्वती जय, जय, जय हे माँ सरस्वती, तुमको आज निहार रहा हूँ । अपने हाथ पसार रहा हूँ ।।…

12 months ago

गिरिराज कुवँरि की रचनाएँ

पद / 1 अद्भुत रचाय दियो खेल देखो अलबेली की बतियाँ। कहुँ जल कहुँ थल गिरि कहूँ कहूँ कहूँ वृक्ष…

12 months ago

गिरिराज किराडू की रचनाएँ

सुखांत तुम यही करोगे अंत में मुझे दंड ख़ुद को पुरस्कार दोगे किंतु तुम्हारा किया यह अंत सिर्फ़ एक विरामचिन्ह…

12 months ago

गिरिराजशरण अग्रवाल की रचनाएँ

आकांक्षा  मैं तुम्हारी आँखों में झाँकूँ और झाँकता ही रहूँ । मैं तुम्हारी आँखों की गहराई नापूँ और नापता ही…

12 months ago

गिरिधर की रचनाएँ

लाठी में गुण बहुत हैं  लाठी में हैं गुण बहुत, सदा रखिये संग। गहरि नदी, नाली जहाँ, तहाँ बचावै अंग।।…

12 months ago

गिरिधर शर्मा ‘नवरत्न’ की रचनाएँ

राष्ट्रीय गान जय जय जय जय हिन्दुस्तान जय जय जय जय हिन्दुस्तान महिमंडल में सबसे बढके हो तेरा सन्मान सौर…

12 months ago

गिरिजादत्त शुक्ल ‘गिरिश’ की रचनाएँ

मैं न बनूँगा दादा जैसा क्या कहती है माँ, दादा के जितना बड़ा कभी हूँगा! जो हो अपने को, उन…

12 months ago

गिरिजाकुमार माथुर की रचनाएँ

मेरे युवा-आम में नया बौर आया है  मेरे युवा-आम में नया बौर आया है ख़ुशबू बहुत है क्योंकि तुमने लगाया…

12 months ago