व्योमेश शुक्ल ’की रचनाएँ

जस्ट टियर्स [ इस लम्बी कविता में दर्ज़ लोग और भूगोल, दर्द और दिक्क़तें नई नहीं हैं, नया है वह कहन, जिसे व्योमेश शुक्ल अपनी… Read More »व्योमेश शुक्ल ’की रचनाएँ

वेणु गोपाल ’की रचनाएँ

अंधेरा मेरे लिए रहती है रोशनी लेकिन दिखता है अंधेरा तो कसूर अंधेरे का तो नहीं हुआ न! और न रोशनी का! किसका कसूर? जानने… Read More »वेणु गोपाल ’की रचनाएँ

वेंकटेश चन्द्र पाण्डेय ’की रचनाएँ

नन्हा पौधा  एक बीज था गया बहुत ही, गहराई में बोया उसी बीज के अंतर में था नन्हा पौधा सोया उस पौधे को मंद पवन… Read More »वेंकटेश चन्द्र पाण्डेय ’की रचनाएँ

वृन्दावनलाल वर्मा ’की रचनाएँ

आगे चले चलो अपवाद भय या कीर्ति प्रेम से निरत न हो, यदि ख़ूब सोच-समझ कर मार्ग चुन लिया। प्रेरित हुए हो सत्य के विश्वास,… Read More »वृन्दावनलाल वर्मा ’की रचनाएँ

वृंदावनदास’की रचनाएँ

प्रीतम तुम मो दृगन बसत हौ प्रीतम तुम मो दृगन बसत हौ। कहा भरोसे ह्वै पूछत हौ, कै चतुराई करि जु हंसत हौ॥ लीजै परखि… Read More »वृंदावनदास’की रचनाएँ

वीरेश्वर सिंह ‘विक्रम’की रचनाएँ

प्यारे फूल प्यारे फूल! प्यारे फूल! कल तो तुम चुनमुनिया-से थे आज भला कैसे बढ़ आए? ऐसी महक और रंग तुम सच-सच कहो, कहाँ से… Read More »वीरेश्वर सिंह ‘विक्रम’की रचनाएँ

वीरेन्द्र खरे ‘अकेला’ की रचनाएँ

भूल कर भेदभाव की बातें भूल कर भेदभाव की बातें आ करें कुछ लगाव की बातें जाने क्या हो गया है लोगों को हर समय… Read More »वीरेन्द्र खरे ‘अकेला’ की रचनाएँ

वीरेन्द्र कुमार जैन की रचनाएँ

सौन्दर्य का एक क्षण सर्दी की सुबह : कॉलेज के बरामदे में, ताश-चिड़ियानुमा जाली, उसमें झलमलाती हरियाली पत्राली : इस ओर चिड़ियों की धूप-छाया चित्राली। …यह क्षण… Read More »वीरेन्द्र कुमार जैन की रचनाएँ

वीरेन डंगवाल की रचनाएँ

अकेला तू तभी तू तभी अकेला है जो बात न ये समझे हैं लोग करोडों इसी देश में तुझ जैसे धरती मिट्टी का ढेर नहीं… Read More »वीरेन डंगवाल की रचनाएँ