हिन्दी

पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ

जे० एन० यू० पर साम्यवाद का अन्त हो गया अन्त हुआ इतिहास का है यथार्थ बेहद रपटीला सपना है संत्रास…

15 hours ago

फ़ैयाज़ हाशमी की रचनाएँ

आज जाने की ज़िद न करो आज जाने की ज़िद न करो यूँ ही पहलू में बैठे रहो आज जाने…

6 days ago

फ़ैसल अजमी की रचनाएँ

अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है मोहब्बतों को कोई बद-दुआ लगी हुई…

6 days ago

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की रचनाएँ

आपकी याद आती रही रात भर मख़दूम[1] की याद में-1 "आपकी याद आती रही रात-भर" चाँदनी दिल दुखाती रही रात-भर गाह…

6 days ago

फ़िराक़ गोरखपुरी की रचनाएँ

जो बात है हद से बढ़ गयी है जो बात है हद से बढ़ गयी है वाएज़[1] के भी कितनी चढ़…

6 days ago

फ़ारूक़ शमीम की रचनाएँ

दर्द के चेहरे बदल जाते हैं क्यूँ दर्द के चेहरे बदल जाते हैं क्यूँ मर्सिए नग़मों में ढल जाते हैं…

6 days ago

फ़ारूक़ बाँसपारी की रचनाएँ

ब-रोज़-ए-हश्र मिरे साथ दिल-लगी ही तो है ब-रोज़-ए-हश्र मिरे साथ दिल-लगी ही तो है कि जैसे बात कोई आप से…

6 days ago

फ़ारूक़ इंजीनियर की रचनाएँ

हर जगह ये आशियाना किस का है हर जगह ये आशियाना किस का है ज़र्रे-ज़र्रे में ठिकाना किस का है…

6 days ago

फ़ारिग बुख़ारी की रचनाएँ

देख कर उस हसीन पैकर को देख कर उस हसीन पैकर को नश्शा सा आ गया समुंदर को डोलती डगमगाती…

6 days ago

फ़ानी बदायूनी की रचनाएँ

एक मोअ'म्मा है समझने का एक मोअ'म्मा[1] है समझने का ना समझाने का ज़िन्दगी काहे को है ख़्वाब है दीवाने का…

6 days ago