आधुनिक काल

पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ

जे० एन० यू० पर साम्यवाद का अन्त हो गया अन्त हुआ इतिहास का है यथार्थ बेहद रपटीला सपना है संत्रास…

3 months ago

फ़ैयाज़ हाशमी की रचनाएँ

आज जाने की ज़िद न करो आज जाने की ज़िद न करो यूँ ही पहलू में बैठे रहो आज जाने…

3 months ago

फ़ैसल अजमी की रचनाएँ

अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है मोहब्बतों को कोई बद-दुआ लगी हुई…

3 months ago

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की रचनाएँ

आपकी याद आती रही रात भर मख़दूम[1] की याद में-1 "आपकी याद आती रही रात-भर" चाँदनी दिल दुखाती रही रात-भर गाह…

3 months ago

फ़ुज़ैल जाफ़री की रचनाएँ

चमकते चाँद से चेहरों के मंज़र से निकल आए चमकते चाँद से चेहरों के मंज़र से निकल आए ख़ुदा हाफ़िज़…

3 months ago

फ़िराक़ गोरखपुरी की रचनाएँ

जो बात है हद से बढ़ गयी है जो बात है हद से बढ़ गयी है वाएज़[1] के भी कितनी चढ़…

3 months ago

फ़ारूक़ शमीम की रचनाएँ

दर्द के चेहरे बदल जाते हैं क्यूँ दर्द के चेहरे बदल जाते हैं क्यूँ मर्सिए नग़मों में ढल जाते हैं…

3 months ago

फ़ारूक़ बाँसपारी की रचनाएँ

ब-रोज़-ए-हश्र मिरे साथ दिल-लगी ही तो है ब-रोज़-ए-हश्र मिरे साथ दिल-लगी ही तो है कि जैसे बात कोई आप से…

3 months ago

फ़ारूक़ इंजीनियर की रचनाएँ

हर जगह ये आशियाना किस का है हर जगह ये आशियाना किस का है ज़र्रे-ज़र्रे में ठिकाना किस का है…

3 months ago

फ़ारिग बुख़ारी की रचनाएँ

देख कर उस हसीन पैकर को देख कर उस हसीन पैकर को नश्शा सा आ गया समुंदर को डोलती डगमगाती…

3 months ago