असग़र गोण्डवी की रचनाएँ

ये राज़ है मेरी ज़िंदगी का 

ये राज़ है मेरी ज़िंदगी का
पहने हुए हूँ कफ़न खुदी का

फिर नश्तर-ए-गम से छेड़ते हैं
इक तर्ज़ है ये भी दिल दही का

ओ लफ्ज़-ओ-बयाँ में छुपाने वाले
अब क़स्द है और खामोशी का

मारना तो है इब्तदा की इक बात
जीना है कमाल मुंतही का

हाँ सीना गुलों की तरह कर चाक
दे मार के सबूत ज़िंदगी का

ये मुझसे पूछिए क्या जूस्तजू में लज़्ज़त है

ये मुझ से पूछिए क्या जूस्तजू में लज़्ज़त है
फ़ज़ा-ए-दहर में तहलियल हो गया हूँ मैं

हटाके शीशा-ओ-सागर हुज़ूम-ए-मस्ती में
तमाम अरसा-ए-आलम पे छा गया हूँ मैं

उड़ा हूँ जब तो फलक पे लिया है दम जा कर
ज़मीं को तोड़ गया हूँ जो रह गया हूँ मैं

रही है खाक के ज़र्रों में भी चमक मेरी
कभी कभी तो सितारों में मिल गया हूँ मैं

समा गये मेरी नज़रों में छा गये दिल पर
ख़याल करता हूँ उन को कि देखता हूँ मैं

खुदा जाने कहाँ है ‘असग़र’-ए-दीवाना बरसों से

खुदा जाने कहाँ है ‘असग़र’-ए- दीवाना बरसों से
कि उस को ढूँढते हैं काबा-ओ-बुतखाना बरसों से

तड़पना है न जलना है न जलकर ख़ाक होना है
ये क्यों सोई हुई है फ़ितरत-ए-परवाना बरसों से

कोई ऐसा नहीं यारब कि जो इस दर्द को समझे
नहीं मालूम क्यों ख़ामोश है दीवाना बरसों से

हसीनों पर न रंग आया न फूलों में बहार आई
नहीं आया जो लब पर नग़मा-ए-मस्ताना बरसों से

ये इश्क़ ने देखा है ये अक़्ल से पिन्हाँ है

ये इश्क़ ने देखा है, ये अक़्ल से पिन्हाँ है
क़तरे में समन्दर है, ज़र्रे में बयाबाँ है

ऐ पैकर-ए-महबूबी मैं, किस से तुझे देखूँ
जिस ने तुझे देखा है, वो दीदा-ए-हैराँ है

सौ बार तेरा दामन, हाथों में मेरे आया
जब आँख खुली देखा, अपना ही गिरेबाँ है

ये हुस्न की मौजें हैं, या जोश-ए-तमन्ना है
उस शोख़ के होंठों पर, इक बर्क़-सी लरज़ाँ है

“असग़र” से मिले लेकिन, “असग़र” को नहीं देखा
अशआर में सुनते हैं, कुछ-कुछ वो नुमायाँ है

पास-ए-अदब में जोश-ए-तमन्ना लिये हुए

पास-ए-अदब में जोश-ए-तमन्ना लिये हुए
मैं भी हूँ एक हुबाब में दरिया लिये हुए

रग-रग में और कुछ न रहा जुज़ ख़याल-ए-दोस्त
उस शोख़ को हूँ आज सरापा लिये हुए

सरमाया-ए-हयात है हिर्माने-ए-आशिक़ी
है साथ एक सूरत-ए-ज़ेबा लिये हुए

जोश-ए-जुनूँ में छूट गया आस्तान-ए-यार
रोते हैं मुँह में दामन-ए-सहरा लिये हुए

“असग़र” हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी में उसकी याद
आई है इक तिलिस्मी तमन्ना लिये हुए

मौजों का अक्स है ख़त-ए-जाम-ए-शराब में 

मौजों का अक्स है, ख़त-ए-जाम-ए-शराब में
या ख़ून उछल रहा है, रग-ए-माहताब में

वो मौत है कि कहते हैं, जिसको सुकून सब
वो ऐन ज़िन्दगी है,जो है इज़्तराब में

दोज़ख़ भी एक जल्वा-ए-फ़िरदौस-ए-हुस्न है
जो इस से बेख़बर हैं, वही हैं अज़ाब में

उस दिन भी मेरी रूह थी, मह्व-ए-निशात-ए-दीद
मूसा उलझ गए थे, सवाल-ओ-जवाब में

मैं इज़्तराब-ए-शौक़ कहूँ या जमाल-ए-दोस्त
इक बर्क़ है जो कौंध रही है नक़ाब में

इक आलम-ए-हैरत है, फ़ना है न बक़ा है

इक आलम-ए-हैरत है, फ़ना है न बक़ा है
हैरत भी ये है कि, क्या जानिए क्या है

सौ बार जला है तो, ये सौ बार बना है
हम सख़्त जानों का, नशेमन भी बला है

होठों पे तबस्सुम है, कि एक बर्क़-ए-बला है
आंखों का इशारा है, कि सैलाब-ए-फ़ना है

सुनता हूँ बड़े गौर से, अफ़साना-ए-हस्ती
कुछ ख़्वाब है कुछ अस्ल है, कुछ तर्ज़-ए-अदा है

है तेरे तसव्वुर से यहाँ, नूर की बारिश
ये जान-ए-हज़ीं है कि, शबिस्तान-ए-हिरा

बिस्तर-ए-ख़ाक पे बैठा हूँ , न मस्ती है न होश 

बिस्तर-ए-ख़ाक पे बैठा हूँ , न मस्ती है न होश
ज़र्रे सब साकित ओ सामत हैं, सितारे ख़ामोश

नज़र आती है मज़ाहिर में मेरी शक्ल मुझे
फ़ितरत-ए-आईना बदस्त और मैं हैरान-ओ-ख़ामोश

तर्जुमानी की मुझे आज इजाज़त दे दे
शजर-ए-“तूर” है साकित, लब-ए-मन्सूर ख़ामोश

बहर आवाज़ “अनल बहर” अगर दे तो बजा
पर्दा-ए-क़तरा-ए-नाचीज़ से क्यूँ है यह ख़रोश?

हस्ती-ए-ग़ालिब से गवारा-ए-फ़ितरत जुम्बां
ख़्वाब में तिफ़्लक-ए-आलम है सरासर मदहोश

पर्तव-ए-महर ही ज़ौक़-ए-राम ओ बेदारी दे
बिस्तर-ए-गुल पे है इक क़तरा-ए-शबनम मदहोश

फ़ित्ना-सामानियों की ख़ू न करे

फ़ित्ना-सामानियों[1] की ख़ू[2] न करे।
मुख़्तसर यह कि आरज़ू न करे॥

पहले हस्ती की है तलाश ज़रूर।
फिर जो गुम हो तो जुस्तजू न करे॥

मावराये-सुख़न[3] भी है कुछ बात।
बात यह है कि गुफ़्तगू न करे॥

शब्दार्थ
  1. ऊपर जायेंसांसारिक वस्तुओं
  2. ऊपर जायें इच्छा
  3. ऊपर जायें वाई का संयम

तर्के-मुद्दआ कर दे ऐने-मुद्दआ हो जा 

तर्के-मुद्दआ[1] कर दे ऐने-मुद्दआ[2] हो जा।
शाने-अबद[3] पैदा कर मज़हरे-ख़ुदा[4] हो जा॥

उसकी राह में मिटकर, बे-नियाज़े-ख़लक़त बन।
हुस्न पर फ़िदा होकर हुस्न की अदा हो जा॥

तू है जब पयाम उसका फिर पयाम क्या तेरा।
तू है जब सदा उसकी, आप बेसदा हो जा॥

आदमी नहीं सुनता आदमी की बातों को।
पैकरे-अमल बनकर ग़ैब की सदा हो जा॥

शब्दार्थ
  1. ऊपर जायेंअभिलाषाओं का त्याग
  2. ऊपर जायें निर्मल
  3. ऊपर जायेंआत्मसमर्पण करके उसके सेवक बनने का गौरव प्राप्त कर
  4. ऊपर जायें ईश्वर के प्रकट होने का स्थान

चुनिंदा शे’र

इश्क ही सअ़ई मेरी, इश्क ही हासिल मेरा
यही मंज़िल है, यही जाद-ए-मंज़िल मेरा।

दैर-ओ-हरम भी कूचए-जानाँ में आए थे।
पर शुक्र है कि बढ़ गए दामन बचा के हम॥

नियाज़े-इश्क़ को समझा है क्या ऐ वाइज़े-नादाँ।
हज़ारों बन गए काबे, जहाँ मैंने जबी रख दी॥

क्या दर्दे-हिज्र और यह क्या लज़्ज़ते-विसाल।
उससे भी कुछ बुलंद मिली है नज़र मुझे॥

अब न यह मेरी ज़ात है, अब न यह कायनात है।
मैंने नवाये-इश्क को साज़ से यूँ मिला दिया॥

मेरे मज़ाके़-शौक़ का इसमें भरा है रंग।
मैं खुद को देखता हूँ, कि तस्वीरे-यार को॥

खिलते ही बाग में पज़मुर्दा[1] हो चले।
जुम्बिश रंगे-बहार में मौजे-फ़ना की है॥

बुलबुलो-गुल में जो गुज़री हमको उससे क्या गरज़।
हम तो गुलशन में फ़क़त, रंगेचमन देखा किए॥

जानते हैं वो अदायें इस दिले-बेताब की।
उनसे बढ़कर कौन होगा, नुक्तादाने-इज़्तराब[2]

नासेह मुश्फ़िक़![3] मगर यूँ ही तड़पने दे मुझे।
मुझ को भी मालूम है, सूदो-ज़ियाने-इज़्तराब[4]

शब्दार्थ
  1. ऊपर जायें कुम्हलाने लगे
  2. ऊपर जायें बेचैनी को समझनेवाला
  3. ऊपर जायें हितैशी उपदेशक
  4. ऊपर जायें बेचैनी का हानी-लाभ

चंद रुबाइयात

सारे आलम में किया तुझ को तलाश।
तू ही बतला है रगेगरदन कहाँ ?
खूब था सहरा, पर ऐ ज़ौके़-जुनूँ।
फाड़ने को नित नये दामन कहाँ ?

वो लज़्ज़ते-सितम का जो ख़ूगर समझ गये।
अब ज़ुल्म मुझपै है कि सितम गाह-गाह का॥
शीशे में मौजे-मय को यह क्या देखते हैं आप।
इसमें जवाब है उसी बर्के़- निगाह का॥

मेरी वहशत पै बहस-आराइयाँ अच्छी नहीं नासेह!
बहुत-से बाँध रक्खे हैं गरेबाँ मैंने दामन में॥
इलाही कौन समझे मेरी आशुफ़्ता मिज़ाजी को।
क़फ़स में चैन आता है, न राहत है नशेमन में॥

Share