शम्भु की रचनाएँ

दृग लाल बिसाल उनीँदे कछू गरबीले लजीले सुपेखहिँगे

ग लाल बिसाल उनीँदे कछू गरबीले लजीले सुपेखहिँगे ।
कब धौँ सुथरी बिखरी अलकैँ झपकी पलकैँ अवरेखहिँगे ।
कवि शम्भु सुधारत भूषण वेस निहारि नयो जग लेखहिँगे ।
अँगरात उठी रति मँदिर ते कब भोरहिँ भामिनि देखहिँगे

शम्भु का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।

Share