मंजुला वीर देव की रचनाएँ

कौन

फूलों को किसने सिखलाया मधुर-मधुर मुस्काना?
कोयल को किसने सिखलाया मीठा-मीठा गाना?

कौन सूर्य को चमकाकर हरता जग का अंधियारा?
कौन रात को भर देता है चंदा में उजियारा?

किसने ज्योति भरी तारों में, पेड़ों में हरियाली?
रोज सवेरे फैला देता कौन पूर्व में लाली?

किसने सिखला दिया हवा को सर-सर-सर-सर बहना?
किसने सिखलाया पर्वत को शीश उठाए रहना?

किसकी कला दिखाई पड़ती झरने के झर-झर में?
किसकी झाँकी झलक रही सागर की लहर-लहर में?

Share