विद्यापति ठाकुर की रचनाएँ

एत जप-तप हम की लागि कयलहु

एत जप-तप हम की लागि कयलहु,
कथि लय कयल नित दान।
हमर धिया के इहो वर होयताह,
आब नहिं रहत परान।
नहिं छनि हर कें माय-बाप,
नहिं छनि सोदर भाय।
मोर धिया जओं ससुर जयती,
बइसती ककरा लग जाय।
घास काटि लऔती बसहा च्रौरती,
कुटती भांग–धथूर।
एको पल गौरी बैसहु न पौती,
रहती ठाढि हजूर।
भनहि विद्यापति सुनु हे मनाइनि,
दिढ़ करू अपन गेआन।
तीन लोक केर एहो छथि ठाकुर
गौरा देवी जान।

शिव को वर के रूप में देख कर माता को यह चिंता सता रही है कि ससुराल में पार्वती किसके साथ रहेगी –न सास है, न ससुर , कैसे उसका निर्वाह होगा ? सारा जप –तप उसका निरर्थक हो गया…यदि यही दिन देखना था तो …देखें माँ का हाल

हम नहि आजु रहब अहि आँगन

हम नहि आजु रहब अहि आँगन
जं बुढ होइत जमाय, गे माई.
एक त बैरी भेल बिध बिधाता
दोसर धिया केर बाप।
तेसरे बैरी भेल नारद बाभन।
जे बुढ अनल जमाय। गे माइ॥

पहिलुक बाजन डमरू तोड़ब
दोसर तोड़ब रुण्डमाल। गे माइ॥
बड़द हाँकि बरिआत बैलायब
धियालय जायब पराय गे माइ।

धोती लोटा पोथी पतरा
सेहो सब लेबनि छिनाय। गे माइ॥
जँ किछु बजताह नारद बाभन
दाढ़ी धय लय घिसियाब, गे माइ।

भनइ विद्यापति सुनु हे मनाइनि
दृढ करू अपन गेआन। गे माइ॥
सुभ सुभ कय सिव गौरी बियाहु
गौरी हर एक समान, गे माइ॥

हिमाचल किछुओ ने केलैन्ह बिचारी 

हिमाचल किछुओ ने केलैन्ह बिचारी।
नारद बभनमा सs केलैन्ह पुछारी
बर बूढा लयला भिखारी।
हिमाचल…

ओहि बुढ़वा के बारी नय झारी
पर्वत के ऊपर घरारी…
हिमाचल किछुओ ने केलैन्ह बिचारी।

भनहि विद्यापति सुनु हे मनाइन
इहो थिका भंगिया भिखारी
हिमाचल किछुओ नय केलैन्ह बिचारी।

आजु नाथ एक व्रत महा सुख लागल हे

आजु नाथ एक व्रत महा सुख लागल हे।
तोहे सिव धरु नट भेस कि डमरू बजाबह हे। ।
तोहे गौरी कहैछह नाचय हमें कोना नाचब हे॥
चारि सोच मोहि होए कौन बिधि बाँचब हे॥
अमिअ चुमिअ भूमि खसत बघम्बर जागत हे॥
होएत बघम्बर बाघ बसहा धरि खायत हे॥
सिरसँ ससरत साँप पुहुमि लोटायत हे॥
कातिक पोसल मजूर सेहो धरि खायत हे॥
जटासँ छिलकत गंगा भूमि भरि पाटत हे॥
होएत सहस मुखी धार समेटलो नहीं जाएत हे॥
मुंडमाल टुटि खसत, मसानी जागत हे॥
तोहें गौरी जएबह पड़ाए नाच के देखत हे॥
भनहि विद्यापति गाओल गाबि सुनाओल हे॥
राखल गौरी केर मान चारु बचाओल हे।

अर्थ:
उपरोक्त पदों में गौरी के माध्यम से कवि कोकिल विद्यापति कहते हैं कि हे शिव! आज एक महान व्रत का मुहूर्त है और मुझे सुख का अनुभव हो रहा है। हे प्रभु आप नटराज का भेष धारण कर डमरू बजावें। गौरी के इस आग्रह को सुन शिव जी कहते हैं …हे गौरी आप हमें नाचने के लिए कह रही हैं पर मैं कैसे नाचूं? कारण, नृत्य से उत्पन्न संभावित चार खतरों से मैं चिंतित हूँ जिससे बचना मुश्किल है। पहला – नृत्य के क्रम में चाँद से अमृत की बूँदें टपकेंगी जिससे मेरा यह बाघम्बर सजीव अर्थात जीवित हो जायेगा और मेरे बसहा को खा जायेगा। दूसरा – नृत्य के क्रम में ही मेरे जटा जूट में लिपटे हुए सांप नीचे की तरफ खिसक कर आ जाएँगे और और पृथ्वी पर विचरण करने लगेंगे, जिसके फलस्वरूप कार्तिक के पाले हुए मयूर उन्हें मार डालेंगे । तीसरा – जटा से निकलकर गंगा भी बाहर आ जाएँगी और सहस्त्र मुखी हो बहने लगेंगी, जिसे संभालना बहुत मुश्किल होगा । चौथा – मुंड का माला भी टूट कर बिखर जाएगा और वे सारे जीवित हो उठेंगे और आप यहाँ से भाग जाएँगी । यदि आप ही भाग जाएँगी तो फिर नृत्य का क्या प्रयोजन, कौन देखेगा? इस गीत को गाकर विद्यापति कहते हैं औघर दानी शंकर पार्वती के मान की रक्षा करते हुए नृत्य भी करते हैं और संभावित खतरा से भी बचा लिया।

रुसि चलली भवानी तेजि महेस 

रुसि चलली भवानी तेजि महेस
कर धय कार्तिक कोर गनेस

तोहे गउरी जनु नैहर जाह
त्रिशुल बघम्बर बेचि बरु खाह

त्रिशुल बघम्बर रहओ बरपाय
हमे दुःख काटब नैहर जाए

देखि अयलहुं गउरी, नैहर तोर
सब कां पहिरन बाकल डोर

जनु उकटी सिव, नैहर मोर
नाँगट सओं भल बाकल-डोर

भनइ विद्यापति सुनिअ महेस
नीलकंठ भए हरिअ कलेश

उपरोक्त पंक्तियों में कवि कोकिल विद्यापति गौरी के रूठ कर जाने का वर्णन करते हुए कहते हैं:
गौरी रूठ कर शिव जी को छोड़ विदा होती हैं. कार्तिक का वे हाथ पकड़ लेती हैं और गणेश को गोद में ले लेती हैं. शिव जी आग्रह करते हुए कहते हैं – हे गौरी, आप नैहर (मायके) न जाएँ . चाहे उन्हें त्रिशूल और बाघम्बर बेचकर ही क्यों न खाना पड़े. यह सुन गौरी कहती हैं – यह त्रिशूल और बाघम्बर आपके पास ही रहे. मैं तो नैहर जाऊँगी ही, चाहे दुःख ही क्यों न काटना पड़े . तब शिव जी कहते हैं – हे गौरी मैं आपका नैहर भी देख आया हूँ. वहाँ लोग क्या पहनते हैं ….सभी बल्कल यानि पेड़ का छाल आदि पहनते हैं. यह सुन गौरी गुस्सा जाती हैं और कहती हैं – हे शिव मेरे नैहर को मत उकटिए (शिकायत) . ऐसे नंगा रहने से तो अच्छा है लोग पेड़ का छाल तो पहनते हैं. विद्यापति कहते हैं – हे शिव, सुनिए! नीलकंठ बन जाएँ और गौरी के सारे क्लेश का हरण कर लें.

कखन हरब दुःख मोर हे भोलानाथ

कखन हरब दुःख मोर हे भोलानाथ।
दुखहि जनम भेल दुखहि गमाओल
सुख सपनहु नहि भेल हे भोला।
एहि भव सागर थाह कतहु नहि
भैरव धरु करुआर ;हे भोलानाथ।
भन विद्यापति मोर भोलानाथ गति
देहु अभय बर मोहि, हे भोलानाथ।

गौरा तोर अंगना

गौरा तोर अंगना।
बर अजगुत देखल तोर अंगना।

एक दिस बाघ सिंह करे हुलना।
दोसर बरद छैन्ह सेहो बौना॥
हे गौरा तोर…

कार्तिक गणपति दुई चेंगना।
एक चढथि मोर एक मुसना॥
हे गौर तोर…

पैंच उधार माँगे गेलौं अंगना।
सम्पति मध्य देखल भांग घोटना॥
हे गौरा तोर…

खेती न पथारि शिव गुजर कोना।
मंगनी के आस छैन्ह बरसों दिना॥
हे गौरा तोर ।

भनहि विद्यापति सुनु उगना।
दरिद्र हरन करू धएल सरना॥

हे हर मन द करहुँ प्रतिपाल

हे हर मन द करहुँ प्रतिपाल,
सब बिधि बन्धलहुँ माया जाल।
हे हर मन।

सब दिन रहलहुँ अनके आस,
अब हम जायब केकरा पास।
हे हर मन।

बीतल बयस तीन पल मोरा,
धयल शरण शिव मापन तोरा।
हे हर मन।

तीलक लगौने धनुष कान्ह पर टूटा बालक ठाढ़ छै 

तीलक लगौने धनुष कान्ह पर टूटा बालक ठाढ़ छै
घुमि रहल छै जनकबाग में फूल तोरथ लेल ठाढ़ छै
श्याम रंग जे सबसँ सन्नर से सबहक सरदार छै
नाम पुछई छै राम कहै छै अबध के राजकुमार छै
धनुष प्रतीज्ञा कैल जनकजी के पूरा केनीहार छै
देस-देस के नृप आबि कढ धनैत अपन कघर छै
कियो बीर नहि बुझि पड़ै जछि तँ जनक के धिक्कार छै
एतबा सुनतहिं बजला लक्ष्मण ई कोन कठि पहार छै
बुझबा में नहिं अयलन्हि जनक कें एहि ठाम शेषावगर छै
चुटकी सँ मलि देब धनुष के ई त बड़ निस्सार छै
उठि क विश्वामित्र तखन सँ रा के करैत ठाढ़ छै
जखनहिं राम उठोलन्हि धनुष मचि गेल जय-जय कार छै
धन्य राम छथि धन्य लखनजी जानैत भरि संसार छै
साजि सखी के संग सीयाजी हाथ लेने जयमाल छै
तीलक लगौने धनुष कान्ह पर टूटा बालक ठाढ़ छै

सबरी के बैर सुदामा के तण्डुल

सबरी के बैर सुदामा के तण्डुल
रुचि-रुचि भोग लगाबायन
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
दुर्योधन के घर मेवा त्यागि प्रभु
साग विदुर घर पाबायन
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
ग्याल-बाल जब डूबन लागै प्रभु
हरिजी के नाम उचारायण
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
गज और ग्राह लड़ै जल भीतर
लड़लि-लड़लि गज हारायण
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
नाक-कान जब डूबन लागै प्रभु
हरिजी के नाम उचारायण
हरिजी के नाम पुकारायन
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
गज के हेर सुनय यदुनन्दन
पांव पैदल उठि धाबायन
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
नारायण के चरण-कमल पर
सुमरि-सुमरि भन पारायण
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..
ग्राह के आहि गजराज उबारे स्वामी
भक्तवत्सल कहलाबायन
शिब नारायण-नारायण-नारायण…..

सीताराम सँ मिलान कोना हैत

सीताराम सँ मिलान कोना हैत
रे अन्देशबा लागि रही
राधे-श्याम सँ मिलान कोना हैत
रे अन्देशबा लागि रही
पैरो सँ तीर्थ कहियो ने कयलऊँ
कलजोरि किछु ने दाने
मुख सँ राम कहियो ने रलटऊँ
मोरा मोन भरल गुमाने
रे अन्देशबा लागि रही
सीता-राम सँ…..
हरी मिलत हैं बहुत भाग्य सँ
अधिक कठिनक बात
रे अन्देशबा लागि रही
कथी केर दीप कथी केर बाती नरय लागत दिन राति
जारि गेल दीप मिझा गेल बाती
मुरख रहल पछताय
रे अन्देशबा लागि रही
सीता-राम सँ मिलान कोना हैत रे
रे अन्देशबा लागि रही

सबरी के अंगना में साधु-संत अयलखिन्ह

सबरी के अंगना में साधु-संत अयलखिन्ह
उठि सबरी नोर हे चरण हे पखाड़ि
सबरी चन्द्रामृत हे लेलखिन्ह लय-लय भवन छेतार
सबरी के अंगना में साधु-संत अयलखिन्ह
उठि सबरी नोर रे बहाय…..
माय तोरा हांटऊ सबरी
बाप तोरा बरजऊ है
आहे छोड़ू सबरी
साधु-सन्त साथ
सब समाज मिलि कड एक मत केलकिन्ह
राम एकमत केलकिन्ह
आहे सबरी के दियौ बनबास
झालि खजुरिया सबरी
आब काँखि जाबि लेलकई
काँकि दाबि लेलकई
भजन करैते रमि हे जाई
माय तोरा बरजऊ सबरी
बाप तोरा बरजऊ हे
छोड़ू सबरी साधु-सन्त के साथ
हिली लीयौ मिली हे लीयौ
संग के सखी सब
आहे भजन करैते रमि हे जाय
साहेब कबीर गेलन्हि नीरगुणिया हे
सन्तो भाई जानि लीयौ ने बिचारि
आब सन्तो भैया लीयौ ने बिचारि

कोने नगरिया एलइ बरियतिया सुनु मोर साजन हे

कोने नगरिया एलइ बरियतिया सुनु मोर साजन हे
कोने नगरिया भड गेल शोर सुन मोरा साजन हे
कै लाख हाथी आबै कै लाख धोरबा
सुनु मोरा साजन हे…..
कै लाख पैदल बरियतिया
सुनु मोरा साजन हे…..
एक लाख हाथ आबै
सवा लाख छोड़बा
सुनु मोरा साजन हे…..
सबा लाख पैदल बरियतिया
सुनु मोरा साजन हे…..
कथिये चढ़ल आबै
कथिये चढ़ल आबै
दशरथ रसिलबा
सुनु मोरा साजन हे…..
कथिये चढ़ल आबै
लक्षुमन राम
सुनु मोरा साजन हे…..
हाथिये चढ़ल आबै
दशरथ रसिलबा
सुनु मोरा साजन हे…..
घोड़बे चढ़ल लक्षमण राम
सुनु मोरा साजन हे…..

Share